बुधवार, 2 सितंबर 2009

ताने- बाने

                                        ताने- बाने   

                                  यादों के ताने बानों ने,


                                 फिर नया जाल बिछाया है,


                               मेरे मन की चंचलता को,


                                   वहीं कैद कर आया है,


                                भूली बिसरी और पुरानी,


                                यादों का न्योता आया है,


                               तन्हाई और गूंगे पल,


                             सब साथ यहीं ले आया है,


                            मेरा आँचल आज उन्हीं,


                            सुधियों से भर आया है,


                         यादें बातें सुख दुःख सब कुछ,


                            क्या याद तुम्हें भी आया है,


                            बरसों ऐसे बीत गए,


                             क्यों,अब प्रेम सुधा छलकाया है,


                            इतने बरसों मौन रही मै,


                            क्यों आज मुझे बतलाया है,


                            मेरे मन का अंतर्द्वंद है ये,


                          या मेरी अभिव्यक्ति की मर्यादा है,


                                मन में कितना कोलाहल है,


                        पर मन आज यही कह पाया है,


                               देख तुम्हारा चंचल मन,


                         आँखों में अपना बचपन उतराया है,


                             झोली में खुशियाँ भरने को,


                                सारा अंबर हरखाया है,


                              विपुल हुईं आशाएं पुलकित,


                                ये अपना ही तो जाया है,


                                    विधि से पहले विजय नहीं है,


                                     क्यों ये आज समझ में आया है.


जबलपुर वाली दीदी की शादी की पच्चीसवीं सालगिरह पर आशा दीदी विजय जीजा जी बच्चों विपुल और विधि को मेरी ओर से एक छोटी सी भेंट.

15 टिप्‍पणियां:

  1. "... विधि से पहले विजय नहीं है..."
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति!
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावभीनी बधाई . पढ़कर आनद आया .. शुभकामनाये मेरे तरफ से भी

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरा आँचल आज उन्ही
    सुधियों से भर आया है, ....

    यादें ही तो एक ऐसी दोस्त हैं....जो हुजूम में आती हैं .....बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादे तो ऐसी हि होती है हरदम नया जाल बिछाने को तैयार ..
    बहूत हि बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज हलचल की बदोलत आपकी सुन्दर रचना पढ़ने का मौका मिल गया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत भाव प्रबल यादें ....
    सुंदर अभिव्यक्ति
    शुभकामनायें ...!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे मन का अंतर्द्वंद है ये,'
    फिर भी कितना निर्द्वंद है ये
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  9. इन मधुर भावनाओं के साथ मेरी शुभ-कामनायें भी स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  10. शुभकामना भरी सुंदर कविता । हमारी और से भी अनेक शुभ-आशिर्वाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. विपुल हुई आशाएं पुलकित
    यह अपना ही जाया है
    विधि से पहले विजय नहीं है
    आज समझ में आया है

    बढ़िया गीत लिखा है आशा है आगे भी पढ़ पायेंगे ...
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...