मंगलवार, 15 सितंबर 2009

बचपन



                         बचपन




                           बचपन की चंचल गलियों में




                           कल रात बहुत बहकी थी मैं




                           सारा आलम घूम लिया पर




                           अपनी गलियों तक न पहुंची थी मैं




                           उन गलियों सड़कों चौराहों पर




                           कल रात बहुत सहमी थी मैं




                           सारे प्रतिबंधों को तोड़




                           रात अपने आँगन पहुँची थी मैं




                           सारा आँगन घूम-घूम कर




                           फिर अपनों में चहकी थी मैं




                           घर के हर सूने कोने की




                           सांसों में महकी थी मैं

3 टिप्‍पणियां:

  1. रचना didi
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ, क्षमा चाहूँगा,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन

    Sanjay kumar
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...