मंगलवार, 15 सितंबर 2009

श्रद्धा सुमन

  

                           श्रद्धा सुमन




                                 श्रद्धा सुमन तुम्हें अर्पित हैं


                                 ठुकराओ मत प्यार करो


                                 मन की छोटी सी बगिया में


                                 मेरा भी आह्वान  करो


                                 मेरी सब खुशियाँ ले लो

                                
पर नैनों का नीर मुझे दे दो


                                शुभ प्रभात मुझसे ले लो


                                पर आर्द्र निशा मुझको दे दो


                               मेरी सब खुशियाँ अर्पित हैं


                               ठुकराओ मत प्यार करो


                               मन की छोटी सी बगिया में


                               मेरा भी आह्वान  करो


                               मेरी सब प्रतिभा ले लो


                               पर अपनी भावुकता मुझे दे दो


                               मेरा सब अस्तित्व ले लो


                              पर  अपनी याद मुझे दे दो


                              उषा का सुहाग तुम्हे अर्पित है


                              ठुकराओ मत प्यार करो


                              मन की छोटी सी बगिया में


                              मेरा भी आह्वान करो


                              मुझसे मत अपना रूप छुपाओ


                              पर अपना चित्र मुझे दे दो
   
                              नव प्रेम सूत्र आरंभ करो


                              पर बिछुडी याद मुझे दे दो


                             मेरा प्यार तुम्हे अर्पित है


                             ठुकराओ मत प्यार करो


                             मन की छोटी सी बगिया में


                             मेरा  भी आह्वान  करो

9 टिप्‍पणियां:

  1. रचना जी, मेरे ब्लॉग से जुड़ने के लिए धन्यवाद.
    मैंने आपकी सभी रचनाएं पढ़ी. बहुत अच्छा लिखती हैं आप.
    सच कहा है, यदि किसी को कुछ देना है तो खुशियाँ दो, और लेना है तो दूसरों के गम, दर्द बांटो.
    लिखते रहिये और दूसरों का लिखा भी पढिये और अपनी प्रतिक्रिया भी देते रहिये.
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके आह्वान का मैं अभिनन्दन करता हूँ.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस इतना कहूँगा कि मुझे भाव बहुत सुन्दर लगे

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भावों से सजी सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 3 - 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर कोमल भावों का चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...