बुधवार, 9 सितंबर 2009

एकाकीपन

                                                 एकाकीपन

                                  वीरान पडी इन सडकों पर,
                                 दो कदम तुम्हारा साथ मिले तो,
                                 एकाकीपन मिट जायेगा.
                                 भीड़ भरी इन सडकों पर,
                                 खामोशी जो मिल जाये तो,
                                  एकाकीपन मिट जायेगा.
                                  कशमकश की इन राहों पर,
                                 तन्हाई जो मिल जाए तो,
                                 एकाकीपन मिट जायेगा.
                                आकुल व्यकुल इन राहों पर,
                                गुमनाम कोई जो मिल जाए तो,
                                एकाकीपन मिट जायेगा.
                                वीरानी इन सडकों पर,
                                दो कदम तुम्हारा साथ मिले तो,
                                  एकाकीपन मिट जायेगा.

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. एकाकीपन गीत सृजन का तत्व हुआ
    इसीलिये एकाकी से अपनत्व हुआ.

    भाव-पूर्ण अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिल जाए जो खामोशी तो एकाकीपन मिट जाएगा ....बहुत सुंदर प्रस्तुति । शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावों से भरी हुई अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...